Search
Close this search box.

BREAKING NEWS

प्लास्टिक सर्जरी की अफवाहों पर राजकुमार राव ने दिया जवाब.खुले हुए नलकूप/बोरवेल की सूचना देने वाले को मिलेगी 10 हजार रूपये की प्रोत्साहन राशिरोहित ने छह टीमों से ज्यादा छक्के उड़ाए, पोलार्ड को भी पीछे छोड़ापतंजलि को झटका : योग से कमाए पैसों पर देना होगा टैक्सपुलिस से पंगा लेना मत, नहीं तो यहीं चौराहे पर पटक-पटक कर मारूंगाआज पहले चरण का मतदान,कई दिग्गजों की साख दांव परजम्मू-कश्मीर में एवलांच का रेड अलर्ट, कई इलाको में बर्फबारी से माइनस 10 डिग्री पहुंचा तापमान, UP-बिहार में बारिश ने ठंड बढ़ाईकेजरीवाल के PS के घर ED की रेड, मनी लॉन्ड्रिंग से जुड़े मामले में AAP के 10 ठिकानों पर पहुंची टीमब्लू साड़ी में श्वेता लगीं काफी स्टनिंग, एक्ट्रेस के कातिलाना अवतार पर 1 लाख से भी ज्यादा यूजर्स ने किया लाइकभारत में 718 Snow Leopard, अकेले लद्दाख में रहते हैं 477 हिम तेंदुए, WII की नई रिपोर्ट जारी

भारत को अंतरिक्ष में मिली बड़ी कामयाबी, मून मिशन में चंद्रयान-3 का अहम परीक्षण, बेंगलुरु में सफलतापूर्वक पूरा किया टेस्ट

India's Chandrayaan-3
India's Chandrayaan-3

👇खबर सुनने के लिए प्ले बटन दबाएं

India's Chandrayaan-3
India’s Chandrayaan-3
भारत (India) के चंद्र मिशन को बढ़ावा देने के लिए चंद्रयान -3 ने यूआर राव सैटेलाइट सेंटर, बेंगलुरु में EMI/EMC (इलेक्ट्रो-मैग्नेटिक इंटरफेरेंस/इलेक्ट्रो-मैग्नेटिक कम्पैटिबिलिटी) टेस्ट को सफलतापूर्वक पूरा किया। इसका एलान भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) ने किया हैं।
India's Chandrayaan-3
India’s Chandrayaan-3
ISRO ने कहा कि, स्पेस एनवायर्नमेंट में सैटेलाइट उप-प्रणालियों की कार्यक्षमता और इलेक्ट्रो-मैग्नेटिक के स्तरों के साथ उनकी अनुकूलता सुनिश्चित करने के लिए सैटेलाइट मिशनों के लिए EMI/EC परीक्षण किया जाता है। इसरो ने यह सैटेलाइट्स परीक्षण एक मील के पत्थर की तरह है। चंद्रयान-3 इंटरप्लेनेटरी मिशन के तीन प्रमुख मॉड्यूल हैं। ये प्रोपल्शन मॉड्यूल, लैंडर मॉड्यूल और रोवर हैं। मिशन की जटिलता ये है कि, इन तीनों मॉड्यूल के बीच रेडियो-फ्रीक्वेंसी (RF) संचार लिंक स्थापित करना है।
India's Chandrayaan-3
India’s Chandrayaan-3
ISRO ने आगे कहा कि, चंद्रयान -3 लैंडर EMI/EC परीक्षण के दौरान सभी मानक सुनिश्चित किए गए थे और इसका प्रदर्शन संतोषजनक था। चंद्रयान 3 – चंद्रयान 2 का अनुवर्ती मिशन है, जो चंद्र सतह पर सुरक्षित लैंडिंग और घूमने में एंड-टू-एंड क्षमता प्रदर्शित करता है। इसमें लैंडर और रोवर कॉन्फ़िगरेशन शामिल हैं। प्रोपल्शन मॉड्यूल 100 Km चंद्र कक्षा तक लैंडर और रोवर विन्यास को ले जाएगा। सूत्रों के मुताबिक, चंद्रयान-3 के जून में लॉन्च होने की संभावना है।

Leave a Comment