Search
Close this search box.

BREAKING NEWS

जम्मू-कश्मीर में एवलांच का रेड अलर्ट, कई इलाको में बर्फबारी से माइनस 10 डिग्री पहुंचा तापमान, UP-बिहार में बारिश ने ठंड बढ़ाईकेजरीवाल के PS के घर ED की रेड, मनी लॉन्ड्रिंग से जुड़े मामले में AAP के 10 ठिकानों पर पहुंची टीमब्लू साड़ी में श्वेता लगीं काफी स्टनिंग, एक्ट्रेस के कातिलाना अवतार पर 1 लाख से भी ज्यादा यूजर्स ने किया लाइकभारत में 718 Snow Leopard, अकेले लद्दाख में रहते हैं 477 हिम तेंदुए, WII की नई रिपोर्ट जारीजब नारद मुनि ने पूछा भगवान विष्णु से एकादशी का महत्व, आखिर कैसे मिला ब्राह्मण की पत्नी को बैकुंठ का ऐश्वर्याषटतिला एकादशी आज, जानिए शुभ मुहूर्त, पूजन विधि, व्रत के नियम और उपायइंदौर में नाबालिगों का खुनी खेल, 6 हमलावरो ने किया दो दोस्तों पर चाकू से हमला, आरोपी मौके से फरारशिवपुरी में 8 साल की बच्ची को ट्रक ने कुचला, पुलिस ने ट्रक जब्त किया, ड्राइवर फरार10वीं बोर्ड एग्जाम के पहले ही पेपर वायरल, टेलीग्राम चैनल पर 350 में दिया जा रहा प्रश्न पत्र, कई लोगों पर कार्यवाहीचिली के जंगलों में आग VIDEO, 112 लोगों की मौत सैकड़ों लापता, राष्ट्रपति ने आपातकाल घोषित किया

पं. धीरेंद्र शास्त्री पर धार्मिक हिंसा के लिए राजस्थान में केस दर्ज, कुम्भलगढ़ में हरे झंडे हटाकर भगवा लहराने के लिए कहा

Pandit Dhirendra Krishna Shastri
Pandit Dhirendra Krishna Shastri

👇खबर सुनने के लिए प्ले बटन दबाएं

उदयपुर में बागेश्वर धाम के पंडित धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री पर पुलिस ने धार्मिक हिंसा भड़काने को लेकर केस दर्ज किया है। दरअसल, एक दिन पहले हुई धर्मसभा में पंडित धीेरेन्द्र कृष्ण शास्त्री ने बड़ी संख्या में बैठे लोगों को आह्वान करते हुए कहा था कि, “राजसमंद जिले के कुम्भलगढ़ किले में जो 100 हरे झंडे लगे हैं। वहां भगवा झंडा लगवाओ।”
Rajasthan Breaking News
Rajasthan Breaking News
पुलिस ने इस बयान को धार्मिक हिंसा भड़काने वाला बयान मानते हुए शहर के हाथीपोल थाने में उनके खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। उदयपुर SP विकास शर्मा ने बताया कि, बयान को भड़काऊ और विवादित मानते हुए FIR दर्ज की गई है। बता दें कि, उदयपुर शहर के गांधी ग्राउंड में गुरुवार को धर्मसभा का आयोजन हुआ था। इसमें पंडित धीरेंद्र शास्त्री के साथ कथा मर्मज्ञ पंडित देवकीनंदन ठाकुर और बांसवाड़ा के संत उत्तम स्वामी सहिम कई संत-महात्मा मंच पर मौजूद थे।
पंडित धीरेन्द्र शास्त्री ने अपने बयान में कुम्भलगढ़ किले में भगवा झंडा लगवाने का तीन बार जिक्र किया था। उन्होंने कहा था कि – “डरते तो हम किसी के बाप से नहीं हैं। डरते तो वो हैं जो बुजदिल होते हैं। हम तो वो हैं, जो कुम्भलगढ़ किले में भी भगवा झंडा लगवाकर मानेंगे।” इसके बाद युवाओं की भीड़ को आह्वान करते हुए बोले – “तुम चाहते हो कि वहां भगवा झंडा गढ़े। क्या ये बात सही है, अगर सही तो क्यों चुप बैठे हो।”
पं. धीरेंद्र शास्त्री ने आगे कहा कि – “मेवाड़ में रहने वाले सनातनियों को जातियों में बंट कर नहीं, बल्कि एक होकर हिंदुत्व के लिए लड़ना चाहिए। अगर भारत में रहना होगा तो सीता-राम कहना होगा। उदयपुर में धोखे से एक कन्हैया चला गया, लेकिन अब तो घर-घर में कन्हैया है। अब हिंदुओं पर अत्याचार नहीं सहा जाएगा। हिंदू को जागना होगा। देश को हिंदू राष्ट्र बनाने का संकल्प लेना चाहिए। मेवाड़ तो महाराणा प्रताप, मीराबाई और हाड़ी रानी जैसी वीरांगनाओं की धरती है। कुंभलगढ़ में भी भगवा फहराना चाहिए।”
इसी के साथ उन्होंने शपथ दिलाई कि, “राम-श्रीकृष्ण का विरोध करने वालों को जवाब देंगे, संतों की रक्षा करेंगे और जब तक भारत हिंदू राष्ट्र घोषित नहीं होता चैन से नहीं बैठेंगे।” सभा में मौजूद मेवाड़ के पूर्व राजपरिवार के सदस्य की ओर इशारा करते हुए कहा कि, ‘ये आए तो लगा कि प्रताप की खुशबू आई है। ये वो मेवाड़ है, जहां का घोड़ा चेतक भी वीर था और हाथी रामप्रसाद भी। मैं यहां भाषणबाजी या राजनीति नहीं करने आया हूं। केवल सनातन के लिए काम करता हूं और इसके लिए अपने प्राण भी न्यौछावर करूंगा।”

Leave a Comment