Search
Close this search box.

BREAKING NEWS

जम्मू-कश्मीर में एवलांच का रेड अलर्ट, कई इलाको में बर्फबारी से माइनस 10 डिग्री पहुंचा तापमान, UP-बिहार में बारिश ने ठंड बढ़ाईकेजरीवाल के PS के घर ED की रेड, मनी लॉन्ड्रिंग से जुड़े मामले में AAP के 10 ठिकानों पर पहुंची टीमब्लू साड़ी में श्वेता लगीं काफी स्टनिंग, एक्ट्रेस के कातिलाना अवतार पर 1 लाख से भी ज्यादा यूजर्स ने किया लाइकभारत में 718 Snow Leopard, अकेले लद्दाख में रहते हैं 477 हिम तेंदुए, WII की नई रिपोर्ट जारीजब नारद मुनि ने पूछा भगवान विष्णु से एकादशी का महत्व, आखिर कैसे मिला ब्राह्मण की पत्नी को बैकुंठ का ऐश्वर्याषटतिला एकादशी आज, जानिए शुभ मुहूर्त, पूजन विधि, व्रत के नियम और उपायइंदौर में नाबालिगों का खुनी खेल, 6 हमलावरो ने किया दो दोस्तों पर चाकू से हमला, आरोपी मौके से फरारशिवपुरी में 8 साल की बच्ची को ट्रक ने कुचला, पुलिस ने ट्रक जब्त किया, ड्राइवर फरार10वीं बोर्ड एग्जाम के पहले ही पेपर वायरल, टेलीग्राम चैनल पर 350 में दिया जा रहा प्रश्न पत्र, कई लोगों पर कार्यवाहीचिली के जंगलों में आग VIDEO, 112 लोगों की मौत सैकड़ों लापता, राष्ट्रपति ने आपातकाल घोषित किया

भारत की निगरानी सैटेलाइट OceanSat-3 ने बनाया दुनिया के समुद्र का नक्शा, 300 जीबी का डेटा खंगाल 2,939 तस्वीरों को जोड़कर बना

ISRO
ISRO

👇खबर सुनने के लिए प्ले बटन दबाएं

ISRO के अर्थ ऑब्जरवेशन सैटेलाइट-6 (EOS-6) को ओशनसैट-3 (OceanSat-3) भी बुलाते हैं। इस सैटेलाइट ने अपने ओशन कलर मॉनीटर (OCM) कैमरे से दुनिया की तस्वीर ली जिसे ISRO ने जोड़कर दुनिया का नक्शा बनाया हैं। यह नक्शा फॉल्स कलर कंपोजिट मोजैक है। जिसे 2939 तस्वीरों को जोड़कर बनाया गया है। इन तस्वीरों को प्रोसेस करने में ISRO को 300 GB का डेटा खंगालना पड़ा है। ये तस्वीरें 1 से 15 फरवरी के बीच ली गई थीं।
ISRO
ISRO
इस नक्शे में दिख रहे रंग 13 अलग-अलग वेवलेंथ की प्रकाश किरणों की वजह से है। इसमें पूरी दुनिया का जंगल का कवर, जमीन और समुद्री बायोस्फेयर की डिटेल दिख रही हैं, हालांकि इन रंगों को समझना आम इंसान के बस में नहीं है। लेकिन जो वैज्ञानिक इसे समझते हैं, वो तो समझ ही लेंगे। EOS-6 यानी ओशनसैट-3 समुद्री इलाके में क्लोरोफिल, फाइटोप्लैंकटॉन, एयरोसोल और प्रदूषण की जांच करता है और यह इस सीरीज का तीसरा सैटेलाइट है। इसे श्रीहरीकोटा के सतीश धवन स्पेस सेंटर के लॉन्च पैड वन से PSLV-XL रॉकेट की मदद से छोड़ा गया था।
ISRO
ISRO
EOS-6 करीब 1000 किलोग्राम वजनी सैटेलाइट है। ओशनसैट-1 को पहली बार साल 1999 में लॉन्च किया गया था। इसके बाद इसका दूसरा सैटेलाइट 2009 में अंतरिक्ष में स्थापित किया गया था। बीच में ओशनसैट-3 लॉन्च करने के बजाय स्कैटसैट (SCATSAT-1) को भेजा गया था। क्योंकि ओशनसैट-2 बेकार हो गया था। ओशनसैट के बारे में कहा जाता है कि, इसके जरिए समुद्री सीमाओं पर निगरानी भी रखी जा सकती है।
ISRO
ISRO
OceanSat-3 की तैयारी को लेकर ISRO के साइंटिस्ट कुछ बता नहीं रहे थे। इसलिए उस दौरान SCATSAT को लॉन्च किया गया। SCATSAT में ऐसी तकनीक लगी थी जो OceanSat की कमी को पूरा कर रही थी। जहां तक बात रही PSLV-XL रॉकेट की तो यह 320 टन वजनी है और इसकी लंबाई 44.4 मीटर और व्यास 2.8 मीटर है। इस रॉकेट में 4 स्टेज होते हैं। ये रॉकेट कई सैटेलाइट्स को अलग-अलग ऑर्बिट्स में लॉन्च कर सकता है।
ISRO
ISRO

Leave a Comment