Search
Close this search box.

BREAKING NEWS

जम्मू-कश्मीर में एवलांच का रेड अलर्ट, कई इलाको में बर्फबारी से माइनस 10 डिग्री पहुंचा तापमान, UP-बिहार में बारिश ने ठंड बढ़ाईकेजरीवाल के PS के घर ED की रेड, मनी लॉन्ड्रिंग से जुड़े मामले में AAP के 10 ठिकानों पर पहुंची टीमब्लू साड़ी में श्वेता लगीं काफी स्टनिंग, एक्ट्रेस के कातिलाना अवतार पर 1 लाख से भी ज्यादा यूजर्स ने किया लाइकभारत में 718 Snow Leopard, अकेले लद्दाख में रहते हैं 477 हिम तेंदुए, WII की नई रिपोर्ट जारीजब नारद मुनि ने पूछा भगवान विष्णु से एकादशी का महत्व, आखिर कैसे मिला ब्राह्मण की पत्नी को बैकुंठ का ऐश्वर्याषटतिला एकादशी आज, जानिए शुभ मुहूर्त, पूजन विधि, व्रत के नियम और उपायइंदौर में नाबालिगों का खुनी खेल, 6 हमलावरो ने किया दो दोस्तों पर चाकू से हमला, आरोपी मौके से फरारशिवपुरी में 8 साल की बच्ची को ट्रक ने कुचला, पुलिस ने ट्रक जब्त किया, ड्राइवर फरार10वीं बोर्ड एग्जाम के पहले ही पेपर वायरल, टेलीग्राम चैनल पर 350 में दिया जा रहा प्रश्न पत्र, कई लोगों पर कार्यवाहीचिली के जंगलों में आग VIDEO, 112 लोगों की मौत सैकड़ों लापता, राष्ट्रपति ने आपातकाल घोषित किया

कौन थे राजा कार्तवीर्य, कैसे हुआ पद्मिनी एकादशी के व्रत से उनका जन्म, जानिए पूरी कथा

Padmini Ekadashi Katha
Padmini Ekadashi Katha

👇खबर सुनने के लिए प्ले बटन दबाएं

हिन्दू धर्मानुसार एक साल में कुल 24 एकादशियां होती हैं, लेकिन अधिक मास में एकादशियों की संख्या बढ़ कर 26 हो जाती हैं। अधिक मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को पद्मिनी एकादशी (शुक्ल पक्ष) और परमा एकादशी (कृष्ण पक्ष) के नाम से जाना जाता हैं।

Padmini Ekadashi Katha
Padmini Ekadashi Katha

पद्मिनी एकादशी की व्रत कथा 

भगवन श्रीहरी विष्णु ने नारद ऋषि से कहा – हे म‍ुनिवर! त्रेतायुग में कृतवीर्य नामक राजा महिष्मती पुरी में राज्य करता था। उस राजा की 1,000 परम प्रिय स्त्रियां थीं, परंतु राजा को किसी भी रानी से पुत्र रत्न की प्राप्ति नहीं थी, जो कि उनके राज्यभार को संभाल सके। देव‍ता, पितृ, सिद्ध तथा अनेक चिकि‍त्सकों आदि से राजा ने पुत्र प्राप्ति के लिए काफी प्रयत्न किए, लेकिन सब असफल रहे।

तब राजा ने तपस्या करने का निश्चय किया तो महाराज के साथ उनकी परम प्रिय रानी, जो इक्ष्वाकु वंश में उत्पन्न हुए राजा हरिश्चंद्र की कन्या पद्मिनी थीं, वो भी राजा के साथ वन में जाने को तैयार हो गई। दोनों अपने मंत्री को राज्यभार सौंपकर राजसी वेष त्यागकर गंधमादन पर्वत पर तपस्या करने के लिए चले गए। राजा और उनकी रानी ने उस पर्वत पर 10 हजार वर्ष तक तप किया, परंतु फिर भी उन्हें पुत्र की प्राप्ति नहीं हुई।

तब पतिव्रता रानी कमलनयनी पद्मिनी से माता अनुसुइया ने कहा कि, “12 मास से अधिक महत्वपूर्ण मलमास होता है, जो 32 मास पश्चात आता है। उसमें द्वादशीयुक्त पद्मिनी शुक्ल पक्ष की एकादशी का जागरण समेत व्रत करने से तुम्हारी सारी मनोकामना पूर्ण होगी। इस व्रत के करने से भगवान तुम पर प्रसन्न होकर तुम्हें शीघ्र ही पुत्र देंगे।”

रानी पद्मिनी ने पुत्र प्राप्ति की इच्छा से और माता अनुसुइया के आदेश से एकादशी का व्रत किया। वह एकादशी को निराहार रहकर रात्रि जागरण कर‍ती रही। तब उनके द्वारा इस व्रत से प्रसन्न होकर भगवान विष्‍णु ने उन्हें पुत्र प्राप्ति का वरदान दिया और इसी के प्रभाव से पद्मिनी के घर कार्तवीर्य रूप में पुत्र उत्पन्न हुए। जो तीनों लोकों अधिक बलवान हुए और तीनों लोकों में भगवान के सिवा उनको जीतने का सामर्थ्य किसी में नहीं था।

Padmini Ekadashi Katha
Padmini Ekadashi Katha

सो हे नारद! जिन मनुष्यों ने मलमास शुक्ल पक्ष एकादशी का व्रत किया है, जो संपूर्ण कथा को पढ़ते या सुनते हैं, वे भी यश के भागी होकर विष्‍णुलोक को प्राप्त होते हैं और उन्हें सभी प्रकार के यज्ञों, व्रतों एवं तपस्चर्या का फल प्राप्त होता है।

– इति श्री पद्मिनी एकादशी व्रत कथा सम्पूर्ण –

MORE NEWS>>>कब है मलमास की पद्मिनी एकादशी? जानें सही डेट, शुभ मुहूर्त, पूजन विधि और संतान प्राप्ति का उपाय

Leave a Comment