Search
Close this search box.

BREAKING NEWS

प्लास्टिक सर्जरी की अफवाहों पर राजकुमार राव ने दिया जवाब.खुले हुए नलकूप/बोरवेल की सूचना देने वाले को मिलेगी 10 हजार रूपये की प्रोत्साहन राशिरोहित ने छह टीमों से ज्यादा छक्के उड़ाए, पोलार्ड को भी पीछे छोड़ापतंजलि को झटका : योग से कमाए पैसों पर देना होगा टैक्सपुलिस से पंगा लेना मत, नहीं तो यहीं चौराहे पर पटक-पटक कर मारूंगाआज पहले चरण का मतदान,कई दिग्गजों की साख दांव परजम्मू-कश्मीर में एवलांच का रेड अलर्ट, कई इलाको में बर्फबारी से माइनस 10 डिग्री पहुंचा तापमान, UP-बिहार में बारिश ने ठंड बढ़ाईकेजरीवाल के PS के घर ED की रेड, मनी लॉन्ड्रिंग से जुड़े मामले में AAP के 10 ठिकानों पर पहुंची टीमब्लू साड़ी में श्वेता लगीं काफी स्टनिंग, एक्ट्रेस के कातिलाना अवतार पर 1 लाख से भी ज्यादा यूजर्स ने किया लाइकभारत में 718 Snow Leopard, अकेले लद्दाख में रहते हैं 477 हिम तेंदुए, WII की नई रिपोर्ट जारी

जानें कब है अक्षय तृतीया? सही डेट, शुभ मुहूर्त और पूजन करने की विधि, क्या है पूजा का महत्व

Akshaya Tritiya 2023
Akshaya Tritiya 2023

👇खबर सुनने के लिए प्ले बटन दबाएं

हमारे हिन्दू धर्म में वैशाख महीने के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को अक्षय तृतीया का त्योहार मनाया जाता है। कुछ जगहों पर अक्षय तृतीया को ‘अखा तीज’ भी कहते हैं। अक्षय का अर्थ होता है – “जिसका क्षय न हो” धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, अक्षय तृतीया का दिन बड़ा ही शुभ माना जाता है। माना जाता है इसी दिन भगवान परशुराम, नर-नारायण और हयग्रीव का अवतार हुआ था।
Akshaya Tritiya 2023
Akshaya Tritiya 2023
इस बार अक्षय तृतीया 22 अप्रैल, शनिवार को मनाई जाएगी। इसी दिन से बद्रीनाथ के कपाट खुलते हैं और केवल इसी दिन वृन्दावन में भगवान बांके-बिहारी जी के चरणों का दर्शन होते हैं। इस दिन मूल्यवान वस्तुओं (जैसे सोना) की खरीदारी का बड़ा महत्व है।
अक्षय तृतीया 22 अप्रैल 2023 दिन शनिवार –
अक्षय तृतीया पूजा का शुभ मुहूर्त – सुबह 07:49 से दोपहर 12:20 तक है (कुल अवधि 4 घंटे 31 मिनट)
तृतीया तिथि का प्रारम्भ – 22 अप्रैल 2023 को सुबह 07:49 बजे से
तृतीया तिथि समापन – 23 अप्रैल 2023 को सुबह 07:47 बजे तक
Akshaya Tritiya 2023
Akshaya Tritiya 2023
सोना खरीदने का शुभ मुहूर्त –
अक्षय तृतीया पर सोना खरीदने का समय 22 अप्रैल 2023 को सुबह 07:49 मिनट से शुरू होकर 23 अप्रैल को सुबह 05:48 मिनट तक रहेगा। सोना खरीदने की कुल अवधि 21 घंटे 59 मिनट की रहेगी।
अक्षय तृतीया पूजन विधि –
इस दिन सुबह स्नानादि से शुद्ध होकर पीले वस्त्र धारण करें और अपने घर के मंदिर में विष्णु जी को गंगाजल से शुद्ध करके तुलसी, पीले फूलों की माला या पीले पुष्प अर्पित करें। फिर धूप-अगरबत्ती, ज्योत जलाकर पीले आसन पर बैठकर विष्णु जी से सम्बंधित पाठ पढ़ने के बाद अंत में विष्णु जी की आरती करें एयर साथ ही इस दिन विष्णु जी के नाम से गरीबों को खिलाना या दान देना अत्यंत पुण्य और फलदायी होता है।
MORE NEWS>>>IPL में आज साउथ डर्बी मुकाबला, बेंगलुरु के मैदान पर CSK को चुनौती देगी RCB, दो हार के बाद जीत का स्वाद चखना चाहेंगे बूढ़े शेर
अक्षय तृतीया का महत्व –
अक्षय तृतीया का दिन साल के उन साढ़े तीन मुहूर्त में से एक है जो सबसे शुभ माने जाते हैं। इस दिन अधिकांश शुभ कार्य किए जा सकते हैं। शास्त्रों में इस दिन गंगा स्नान करने का भी बड़ा महत्व बताया गया है। जो मनुष्य इस दिन गंगा स्नान करता है, वह निश्चय ही सारे पापों से मुक्त हो जाता है। इस दिन पितृ श्राद्ध करने का भी विधान है। जौ, गेहूं, चने, सत्तू, दही-चावल, दूध से बने पदार्थ आदि सामग्री का दान अपने पितरों के नाम से करके किसी ब्राह्मण को भोजन कराना चाहिए और किसी तीर्थ स्थान पर अपने पितरों के नाम से श्राद्ध व तर्पण करना बहुत शुभ होता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *