Search
Close this search box.

BREAKING NEWS

जम्मू-कश्मीर में एवलांच का रेड अलर्ट, कई इलाको में बर्फबारी से माइनस 10 डिग्री पहुंचा तापमान, UP-बिहार में बारिश ने ठंड बढ़ाईकेजरीवाल के PS के घर ED की रेड, मनी लॉन्ड्रिंग से जुड़े मामले में AAP के 10 ठिकानों पर पहुंची टीमब्लू साड़ी में श्वेता लगीं काफी स्टनिंग, एक्ट्रेस के कातिलाना अवतार पर 1 लाख से भी ज्यादा यूजर्स ने किया लाइकभारत में 718 Snow Leopard, अकेले लद्दाख में रहते हैं 477 हिम तेंदुए, WII की नई रिपोर्ट जारीजब नारद मुनि ने पूछा भगवान विष्णु से एकादशी का महत्व, आखिर कैसे मिला ब्राह्मण की पत्नी को बैकुंठ का ऐश्वर्याषटतिला एकादशी आज, जानिए शुभ मुहूर्त, पूजन विधि, व्रत के नियम और उपायइंदौर में नाबालिगों का खुनी खेल, 6 हमलावरो ने किया दो दोस्तों पर चाकू से हमला, आरोपी मौके से फरारशिवपुरी में 8 साल की बच्ची को ट्रक ने कुचला, पुलिस ने ट्रक जब्त किया, ड्राइवर फरार10वीं बोर्ड एग्जाम के पहले ही पेपर वायरल, टेलीग्राम चैनल पर 350 में दिया जा रहा प्रश्न पत्र, कई लोगों पर कार्यवाहीचिली के जंगलों में आग VIDEO, 112 लोगों की मौत सैकड़ों लापता, राष्ट्रपति ने आपातकाल घोषित किया

SC का तलाक को लेकर अहम फैसला, पति-पत्नी को अब नहीं करना होगा 6 महीने का इंतजार, सुलह की गुंजाइश नहीं बची तो मंजूर होगा तलाक

Breaking News
Breaking News

👇खबर सुनने के लिए प्ले बटन दबाएं

भारतीय सुप्रीम कोर्ट की संवैधानिक बेंच ने सोमवार को तलाक को लेकर अहम फैसला सुनाया है। कोर्ट ने कहा कि, अगर पति-पत्नी के रिश्ते टूट चुके हों और सुलह की कोई गुंजाइश न बची हो, तो वह भारतीय संविधान के आर्टिकल 142 के तहत तलाक को मंजूरी दे सकता है। इसके लिए अब दंपति को 6 महीने का इंतजार अनिवार्य नहीं होगा।
Supreme Court's Decision
Supreme Court’s Decision
कोर्ट ने कहा कि, उसने वे फैक्टर्स तय किए हैं, जिनके आधार पर शादी को सुलह की संभावना से परे माना जा सकेगा। इसके साथ ही कोर्ट यह भी सुनिश्चित करेगा कि, पति-पत्नी के बीच बराबरी कैसे रहेगी और इसमें मैंटेनेंस, एलिमोनी और बच्चों की कस्टडी भी शामिल है। यह फैसला जस्टिस एसके कौल, जस्टिस संजीव खन्ना, जस्टिस विक्रम नाथ, जस्टिस एएस ओका और जस्टिस जेके माहेश्वरी की संविधान पीठ ने सुनाया हैं।(Breaking News)
क्यों भेजा गया था संविधान पीठ को ये मामला –
इस मुद्दे को एक संविधान पीठ को यह विचार करने के लिए भेजा गया था कि, ‘क्या हिंदू विवाह अधिनियम की धारा 13B के तहत आपसी सहमति से तलाक की प्रतीक्षा अवधि (वेटिंग पीरियड) को माफ किया जा सकता है।” हालांकि खंडपीठ ने यह भी विचार करने का फैसला किया कि, “क्या शादी के सुलह की गुंजाइश ही ना बची हो तो विवाह को खत्म कैसे किया जा सकता है।”(Breaking News)
संविधान पीठ के पास कब भेजा गया था यह मामला –
डिवीजन बेंच ने 29 जून 2016 में पांच जजों की संविधान पीठ को यह मामला रेफर किया था। पांच याचिकाओं पर लंबी सुनवाई के बाद बेंच ने 29 सितंबर, 2022 को अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था और कहा था कि, सामाजिक परिवर्तन में ‘थोड़ा समय’ लगता है और कभी-कभी कानून लाना आसान होता है, लेकिन समाज को इसके साथ बदलने के लिए राजी करना बहुत मुश्किल होता है। लेकिन अब यह फैसला सुनिश्चित किया जा चूका हैं।
MORE NEWS>>>इंदौर से की जा रही सोने की तस्करी, महाकाल ट्रेवल्स की बस से निकला 38 लाख का सोना, ड्राइवर और क्लीनर हिरासत में

Leave a Comment