Search
Close this search box.

BREAKING NEWS

जम्मू-कश्मीर में एवलांच का रेड अलर्ट, कई इलाको में बर्फबारी से माइनस 10 डिग्री पहुंचा तापमान, UP-बिहार में बारिश ने ठंड बढ़ाईकेजरीवाल के PS के घर ED की रेड, मनी लॉन्ड्रिंग से जुड़े मामले में AAP के 10 ठिकानों पर पहुंची टीमब्लू साड़ी में श्वेता लगीं काफी स्टनिंग, एक्ट्रेस के कातिलाना अवतार पर 1 लाख से भी ज्यादा यूजर्स ने किया लाइकभारत में 718 Snow Leopard, अकेले लद्दाख में रहते हैं 477 हिम तेंदुए, WII की नई रिपोर्ट जारीजब नारद मुनि ने पूछा भगवान विष्णु से एकादशी का महत्व, आखिर कैसे मिला ब्राह्मण की पत्नी को बैकुंठ का ऐश्वर्याषटतिला एकादशी आज, जानिए शुभ मुहूर्त, पूजन विधि, व्रत के नियम और उपायइंदौर में नाबालिगों का खुनी खेल, 6 हमलावरो ने किया दो दोस्तों पर चाकू से हमला, आरोपी मौके से फरारशिवपुरी में 8 साल की बच्ची को ट्रक ने कुचला, पुलिस ने ट्रक जब्त किया, ड्राइवर फरार10वीं बोर्ड एग्जाम के पहले ही पेपर वायरल, टेलीग्राम चैनल पर 350 में दिया जा रहा प्रश्न पत्र, कई लोगों पर कार्यवाहीचिली के जंगलों में आग VIDEO, 112 लोगों की मौत सैकड़ों लापता, राष्ट्रपति ने आपातकाल घोषित किया

तो ये हैं मगरमच्छों का 23 करोड़ साल पुराना पूर्वज, 2 फीट लंबा और 5 से 7 किलो वजनी, वैज्ञानिकों को मिले नए प्रजाति के अवशेष

Archosaur
Archosaur

👇खबर सुनने के लिए प्ले बटन दबाएं

आज से लगभग 23 करोड़ साल पहले ट्राइएसिक काल (Triassic period) के अंत में, चोंच जैसे मुंह वाला एक रेप्टाइल अमेरिका में पाया जाता था। यह इलाका अब व्योमिंग (Wyoming) है। जीवाश्म वैज्ञानिको ने एक नए शाकाहारी रेप्टाइल के अवशेषों का पता लगाया है, जो शुरुआती आर्कोसोर (Archosaur) है और इसलिए ये आधुनिक पक्षियों और मगरमच्छों का दूर का रिश्तेदार भी है।
Archosaur
Archosaur
यह रिनकोसॉर (Rhynchosaur) प्रजाति का है, जो पेड़ पौधे खाने वाले जीव होते थे और इनकी तोते जैसी चोंच हुआ करती थी। हाल ही में डायवर्सिटी जर्नल में प्रकाशित एक शोध में, शोधकर्ताओं ने इस नई पहचानी गई प्रजाति के बारे में बताते हुए कहा कि, “उन्होंने इस प्रजाति को बीसीवो कोउव्यूज़ (Beesiiwo cooowuse) कहकर सम्बोधित किया है।”
विस्कॉन्सिन-मैडिसन यूनिवर्सिटी के कशेरुक जीवाश्म विज्ञानी और शोध के सह लेखक डेविड लवलेस (David Lovelace) का कहना है कि, “बीसीवो बड़ा नहीं था। उनका अनुमान है कि, एक वयस्क का वजन शायद 5 से 7 किलो के बीच होता होगा और वह लगभग 2 फीट लंबा होगा।”
Archosaur
Archosaur
शोधकर्ता केवल यह अनुमान लगा सकते हैं कि, ये जानवर किन खास पौधों को खाता होगा। इस बात पर लवलेस का कहना है कि, ‘यह जानवर निश्चित रूप से कोनिफ़र, फ़र्न और हॉर्सटेल के पौधे खाता होगा और उनकी पत्तियों को छीलने या कुतरने के लिए यह अपने चोंच वाले मुंह का बहुत अच्छी तरह से इस्तेमाल करता होगा।”
हालांकि इसके कोई सबूत नहीं मिले हैं। क्योंकि जीवाश्म अमेरिकी भूमि में मिले, इसलिए शोधकर्ताओं ने उत्तरी अरापाहो जनजातीय ऐतिहासिक संरक्षण कार्यालय के नेताओं के साथ पार्टनरशिप की, ताकि नई प्रजाति बीसीवो कूउउसे नाम दिया जा सके। अरापाहो भाषा में इसका मतलब होता है सेंट्रल व्योमिंग के ‘अल्कोवा इलाके की बड़ी छिपकली।’
Archosaur
Archosaur
यह नामकरण अरापाहो लोगों, विंड रिवर इंडियन रिजर्वेशन पर स्थित फोर्ट वाशकी स्कूल (FWS) के छात्रों और यूनिवर्सिटी के बीच पार्टनरशिप का एक हिस्सा है। पश्चिम अमेरिका में खोजे गए ढेरों जीवाश्मों के बावजूद, ऐसा पहली बार है जब अमेरिका में ही पाए गए किसी स्पेसिमेन का नाम अरापाहो भाषा में रखा गया हो। लवलेस का कहना है कि, “यह फील्डवर्क करने के लिए बहुत ही अच्छी जगह है, क्योंकि इस भूवैज्ञानिक संरचना का पिछली एक सदी में कभी अध्ययन नहीं किया गया है।”
MORE NEWS>>>लाखों में हैं इस एक चाकू की कीमत, स्टील की 360 परतों से होता है तैयार, जानिए आखिर इतना महंगा क्यों हैं?

Leave a Comment