Search
Close this search box.

BREAKING NEWS

जम्मू-कश्मीर में एवलांच का रेड अलर्ट, कई इलाको में बर्फबारी से माइनस 10 डिग्री पहुंचा तापमान, UP-बिहार में बारिश ने ठंड बढ़ाईकेजरीवाल के PS के घर ED की रेड, मनी लॉन्ड्रिंग से जुड़े मामले में AAP के 10 ठिकानों पर पहुंची टीमब्लू साड़ी में श्वेता लगीं काफी स्टनिंग, एक्ट्रेस के कातिलाना अवतार पर 1 लाख से भी ज्यादा यूजर्स ने किया लाइकभारत में 718 Snow Leopard, अकेले लद्दाख में रहते हैं 477 हिम तेंदुए, WII की नई रिपोर्ट जारीजब नारद मुनि ने पूछा भगवान विष्णु से एकादशी का महत्व, आखिर कैसे मिला ब्राह्मण की पत्नी को बैकुंठ का ऐश्वर्याषटतिला एकादशी आज, जानिए शुभ मुहूर्त, पूजन विधि, व्रत के नियम और उपायइंदौर में नाबालिगों का खुनी खेल, 6 हमलावरो ने किया दो दोस्तों पर चाकू से हमला, आरोपी मौके से फरारशिवपुरी में 8 साल की बच्ची को ट्रक ने कुचला, पुलिस ने ट्रक जब्त किया, ड्राइवर फरार10वीं बोर्ड एग्जाम के पहले ही पेपर वायरल, टेलीग्राम चैनल पर 350 में दिया जा रहा प्रश्न पत्र, कई लोगों पर कार्यवाहीचिली के जंगलों में आग VIDEO, 112 लोगों की मौत सैकड़ों लापता, राष्ट्रपति ने आपातकाल घोषित किया

महाराणा प्रताप जयंती समारोह पर बोले CM, भले ही जान चली जाए पर हल्दी घाटी की माटी का मान-सम्मान नहीं जाने दूंगा

👇खबर सुनने के लिए प्ले बटन दबाएं

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भोपाल के लाल परेड ग्राउंड के पास मोतीलाल नेहरू स्टेडियम में सोमवार को महाराणा प्रताप जयंती समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि, “हल्दी घाटी की माटी से पवित्र हिंदुस्तान में और कुछ नहीं है, ये माटी भारत के शौर्य और वीरता की प्रतीक है और इसका मान, सम्मान कभी जाने नहीं दूंगा, भले ही जान चली जाए।”
आज दोपहर 1 बजे मोतीलाल नेहरू स्टेडियम में कार्यक्रम शुरू हुआ और केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने सभा को सम्बोधित करते हुए कहा कि, “CM शिवराज ने घोषणाएं करने में कभी कंजूसी नहीं की। लेकिन, इतिहास इस बात का भी साक्षी है कि बाकी जो मुख्यमंत्री हुए और घोषणा करते थे, उसमें से 10% पर अमल हुआ हैं। जबकि शिवराज ने 100 घोषणाएं की, तो 95% पर अमल हुआ।

वहीँ, महाराणा प्रताप के वंशज डॉ. लक्ष्मणराज सिंह मेवाड़ ने मुख्यमंत्री के आज के अवकाश के फैसले पर अपनी ओर से माटी भेंट की है और महाराणा प्रताप के शौर्य की याद के साथ सही दिशा में काम करने की बात कही हैं। आपको बता दें कि, भोपाल में राजपूती आयोजन को महत्व देने के पीछे राजपूत समाज का विरोध प्रदर्शन मुख्य रहा हैं।

MORE NEWS>>>पूर्व CM कमलनाथ पर 84 के दंगों का आरोप, भाजपा प्रदेशाध्यक्ष ने कहा – कमलनाथ के हाथ भी खून से सने

Leave a Comment