Search
Close this search box.

BREAKING NEWS

जम्मू-कश्मीर में एवलांच का रेड अलर्ट, कई इलाको में बर्फबारी से माइनस 10 डिग्री पहुंचा तापमान, UP-बिहार में बारिश ने ठंड बढ़ाईकेजरीवाल के PS के घर ED की रेड, मनी लॉन्ड्रिंग से जुड़े मामले में AAP के 10 ठिकानों पर पहुंची टीमब्लू साड़ी में श्वेता लगीं काफी स्टनिंग, एक्ट्रेस के कातिलाना अवतार पर 1 लाख से भी ज्यादा यूजर्स ने किया लाइकभारत में 718 Snow Leopard, अकेले लद्दाख में रहते हैं 477 हिम तेंदुए, WII की नई रिपोर्ट जारीजब नारद मुनि ने पूछा भगवान विष्णु से एकादशी का महत्व, आखिर कैसे मिला ब्राह्मण की पत्नी को बैकुंठ का ऐश्वर्याषटतिला एकादशी आज, जानिए शुभ मुहूर्त, पूजन विधि, व्रत के नियम और उपायइंदौर में नाबालिगों का खुनी खेल, 6 हमलावरो ने किया दो दोस्तों पर चाकू से हमला, आरोपी मौके से फरारशिवपुरी में 8 साल की बच्ची को ट्रक ने कुचला, पुलिस ने ट्रक जब्त किया, ड्राइवर फरार10वीं बोर्ड एग्जाम के पहले ही पेपर वायरल, टेलीग्राम चैनल पर 350 में दिया जा रहा प्रश्न पत्र, कई लोगों पर कार्यवाहीचिली के जंगलों में आग VIDEO, 112 लोगों की मौत सैकड़ों लापता, राष्ट्रपति ने आपातकाल घोषित किया

कबसे शुरू होने वाला है चातुर्मास, भूल कर भी अगले 5 महीने न करें ये काम, वरना हो सकता हैं भारी नुकसान

Chaturmas 2023
Chaturmas 2023

👇खबर सुनने के लिए प्ले बटन दबाएं

हमारे सनातन धर्म में लिखे महान पुराणों और वेदो में सावन, भाद्रपद, आश्विन और कार्तिक माह का विशेष महत्व बताया गया है। इन चारों महीनों को मिलाकर एक चातुर्मास बनता है। जिसकी शुरुआत देवशयनी एकादशी से होती है, जो कार्तिक के देव प्रबोधिनी एकादशी तक चलती है।
इस समय में श्रीहरि विष्णु योगनिद्रा में लीन रहते हैं, इसलिए इस चातुर्मास में शुभ और मांगलिक कार्य वर्जित हो जाते हैं। चूँकि इसी अवधि में आषाढ़ के महीने में भगवान विष्णु ने वामन रूप में अवतार लिया था। इस बार चातुर्मास 29 जून से 23 नवंबर तक रहेगा।
Chaturmas 2023
Chaturmas 2023
चातुर्मास में किसकी पूजा होती है?
चातुर्मास के चारों महीने हिन्दू धर्म में सर्वाधिक पवित्र माने जाते हैं। आषाढ़ के महीने में अंतिम समय में भगवान वामन और गुरु पूजा का विशेष महत्व होता है और सावन के महीने में भगवान शिव की उपासना होती है। वहीँ, भाद्रपद में भगवान कृष्ण का जन्म होता है और उनकी कृपा बरसती है। आश्विन के महीने में देवी और शक्ति की उपासना की जाती है और साथ ही कार्तिक के महीने में पुनः भगवान विष्णु का जागरण होता है और सृष्टि में मंगल कार्य आरम्भ हो जाते हैं।
ॐ मङ्गलम् भगवान विष्णुः, मङ्गलम् गरुणध्वजः।
मङ्गलम् पुण्डरी काक्षः, मङ्गलाय तनो हरिः॥
Chaturmas 2023
Chaturmas 2023
चातुर्मास पूजा-उपासना के नियम –
आषाढ़ पूर्णिमा को गुरु पूर्णिमा भी कहा जाता हैं। इस दिन गुरु की पूजा उपासना करने से जीवन के हर संकट दूर होते है और सावन में भगवान शिव की पूजा करने से विवाह, सुख और आयु की प्राप्ति होती हैं। वहीँ, भाद्रपद में भगवान श्रीकृष्ण की उपासना करने से संतान और विजय का वरदान मिलता हैं। आश्विन में देवी और श्रीराम की उपासना करने से विजय, शक्ति और आकर्षण का अभय वरदान मिलता हैं। वहीँ, कार्तिक में श्रीहरि और तुलसी की उपासना होती है. इससे राज्य सुख और मुक्ति मोक्ष का वरदान मिलता है।
2023
Chaturmas 2023
चातुर्मास में खान-पान के नियम –
चातुर्मास में एक ही वेला (समय) भोजन करना उत्तम माना जाता है। इन चार महीनों में जितना सात्विक रहा जाए, उतना ही उत्तम होगा और श्रावण में शाक, भाद्रपद में दही, आश्विन में दूध और कार्तिक माह में दाल का त्याग करने से पुण्य की प्राप्ति होती हैं। वहीँ, इस अवधि में जल का अधिक से अधिक प्रयोग करें और जितना सम्भव हो मन को ईश्वर में लगाने का प्रयत्न करें।
दैनिक राजीव टाइम्स की और से आपको चातुर्मास और श्रावण मास की हार्दिक शुभकामनाएं…!!
MORE NEWS>>>इंदौर में डेटिंग साइट वाले आरोपी की जमानत खारिज, पहले दोस्ती, फिर प्यार और बाद में अश्लील वीडियो बनाकर करता था ब्लैकमेल

Leave a Comment