Search
Close this search box.

BREAKING NEWS

प्लास्टिक सर्जरी की अफवाहों पर राजकुमार राव ने दिया जवाब.खुले हुए नलकूप/बोरवेल की सूचना देने वाले को मिलेगी 10 हजार रूपये की प्रोत्साहन राशिरोहित ने छह टीमों से ज्यादा छक्के उड़ाए, पोलार्ड को भी पीछे छोड़ापतंजलि को झटका : योग से कमाए पैसों पर देना होगा टैक्सपुलिस से पंगा लेना मत, नहीं तो यहीं चौराहे पर पटक-पटक कर मारूंगाआज पहले चरण का मतदान,कई दिग्गजों की साख दांव परजम्मू-कश्मीर में एवलांच का रेड अलर्ट, कई इलाको में बर्फबारी से माइनस 10 डिग्री पहुंचा तापमान, UP-बिहार में बारिश ने ठंड बढ़ाईकेजरीवाल के PS के घर ED की रेड, मनी लॉन्ड्रिंग से जुड़े मामले में AAP के 10 ठिकानों पर पहुंची टीमब्लू साड़ी में श्वेता लगीं काफी स्टनिंग, एक्ट्रेस के कातिलाना अवतार पर 1 लाख से भी ज्यादा यूजर्स ने किया लाइकभारत में 718 Snow Leopard, अकेले लद्दाख में रहते हैं 477 हिम तेंदुए, WII की नई रिपोर्ट जारी

जातीय गणना पर रोक लगाने से सुप्रीम कोर्ट का इनकार, 80% काम हो गया, तो 90% हो जाएगा, क्या फर्क पड़ेगा…?

Bihar News 
Bihar News 

👇खबर सुनने के लिए प्ले बटन दबाएं

बिहार में जातीय गणना पर रोक लगाने से सुप्रीम कोर्ट ने इनकार करते हुए कहा कि, “जनगणना का 80% काम पूरा हो चुका है, 90% पूरा हो जाएगा। क्या फर्क पड़ता है..?” अब इस मामले पर सुप्रीम कोर्ट में अगली सुनवाई 14 अगस्त को होगी।

Supreme Court
Supreme Court

1 अगस्त को पटना हाईकोर्ट ने जातिगत गणना को चुनौती देने वाली सभी याचिकाओं को खारिज कर अपने आदेश में कहा था कि, “सरकार चाहे तो गणना करा सकती है। जिसके बाद चंद घंटे के बाद ही सरकार ने जातीय गणना को लेकर आदेश जारी कर सभी DM को बिहार जाति आधारित गणना 2022 के रुके काम को फिर से शुरू करने को कहा था। बता दें कि, पिछले साल जातिगत गणना का आदेश दिया गया था और बिहार सरकार के अनुसार यह लगभग पूरा भी कर लिया गया है।

हाईकोर्ट के फैसले को चुनौती –

सुप्रीम कोर्ट में न्यायमूर्ति एसवीएन भट्टी और न्यायमूर्ति संजीव खन्ना ने आज इस मामले में सुनवाई करते हुए कहा कि, “NGO ‘एक सोच एक प्रयास’ की ओर से याचिका दायर की गई थी और इस फैसले के खिलाफ नालंदा के रहने वाले एक याचिकाकर्ता अखिलेश कुमार ने अपनी याचिका में दलील देते हुए कहा था कि, “किसी भी राज्य सरकार को जातीय जनगणना कराने का अधिकार नहीं है।” इसके लिए बिहार सरकार ने जो अधिसूचना जारी की है, वो संवैधानिक नहीं है और संविधान के अनुसार केवल केंद्र सरकार को ही जनगणना का अधिकार है।”

MORE NEWS>>>ब्लू डीपनेक ड्रेस में केट ने मचाया तहलका, बेड पर लेटकर दिए कातिलाना पोज, बोल्ड फिगर दे ख पानी-पानी हुए फैंस

Leave a Comment