Search
Close this search box.

BREAKING NEWS

प्लास्टिक सर्जरी की अफवाहों पर राजकुमार राव ने दिया जवाब.खुले हुए नलकूप/बोरवेल की सूचना देने वाले को मिलेगी 10 हजार रूपये की प्रोत्साहन राशिरोहित ने छह टीमों से ज्यादा छक्के उड़ाए, पोलार्ड को भी पीछे छोड़ापतंजलि को झटका : योग से कमाए पैसों पर देना होगा टैक्सपुलिस से पंगा लेना मत, नहीं तो यहीं चौराहे पर पटक-पटक कर मारूंगाआज पहले चरण का मतदान,कई दिग्गजों की साख दांव परजम्मू-कश्मीर में एवलांच का रेड अलर्ट, कई इलाको में बर्फबारी से माइनस 10 डिग्री पहुंचा तापमान, UP-बिहार में बारिश ने ठंड बढ़ाईकेजरीवाल के PS के घर ED की रेड, मनी लॉन्ड्रिंग से जुड़े मामले में AAP के 10 ठिकानों पर पहुंची टीमब्लू साड़ी में श्वेता लगीं काफी स्टनिंग, एक्ट्रेस के कातिलाना अवतार पर 1 लाख से भी ज्यादा यूजर्स ने किया लाइकभारत में 718 Snow Leopard, अकेले लद्दाख में रहते हैं 477 हिम तेंदुए, WII की नई रिपोर्ट जारी

क्या है श्री सूक्तम पाठ..? जिससे दूर होता हैं धन संकट, जानिए पाठ का महत्व और सावधानियां

Shri Suktam Path
Shri Suktam Path

👇खबर सुनने के लिए प्ले बटन दबाएं

दुनिया में शायद ही ऐसा कोई व्यक्ति होगा जो धन की देवी श्रीलक्ष्मी से सुख समृद्धि और धन प्राप्ति की कामना न करता हो। इसके लिए लोग न केवल कठोर परिश्रम करते हैं, बल्कि तरह-तरह के उपाय से देवी लक्ष्मी और देव कुबेर को प्रसन्न करते हैं। लेकिन आज हम आपको एक ऐसे ही चमत्कारी उपाय के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसके प्रयोग से आर्थिक तंगी और दरिद्रता कोसों दूर होती है और माँ लक्ष्मी की कृपा से धन की कभी कमी नहीं रहती है।

Shri Suktam Path
Shri Suktam Path

श्री सूक्तम पाठ से दूर होगा धन संकट –

हिंदू धर्म में धन प्राप्ति के लिए माँ लक्ष्मी की मुख्य रूप से पूजा की जाती है। कुछ लोग धन प्राप्ति के लिए कुबेर और सूर्य देव की उपासना भी करते हैं तो कुछ लोग तो दान धर्म के कार्य और और रत्न धारण भी कर लेते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि, तमाम उपासनाओं में श्रीसूक्तम पाठ सर्वोत्तम माना जाता है। लेकिन इसके लिए नियमों और सावधानियों का पालन करना भी बहुत जरूरी होता है, तभी आपको इसका पूर्ण लाभ मिल पाता है।

Shri Suktam Path
Shri Suktam Path

क्या है श्री सूक्तम ?

श्री सूक्तम देवी श्रीलक्ष्मी की आराधना करने के लिए उनको समर्पित मंत्र हैं। जिसे ‘लक्ष्मी सूक्तम्’ भी कहते हैं, यह सूक्त ऋग्वेद से लिया गया है और इसका पाठ धन-धान्य की अधिष्ठात्री देवी लक्ष्मी की कृपा प्राप्ति के लिए किया जाता है। श्रीसूक्त में कुल 15 ऋचाएं हैं और माहात्म्य सहित 16 ऋचाएं मानी गई हैं। आपको बता दें कि, किसी भी स्त्रोत का बिना माहात्म्य के पाठ करने से फल नहीं मिलता है। इसलिए इस सूक्त के सभी 16 ऋचाओं का पाठ करना जरूरी है। ऋग्वेद में वर्णित श्री सूक्त के द्वारा जो भी व्यक्ति श्रद्धापूर्वक श्रीलक्ष्मी का पूजन करता है, वह 7 जन्मों तक निर्धन नहीं होता है।

Shri Suktam Path
Shri Suktam Path

कैसे करें श्री सूक्तम का पाठ ?

सबसे पहले नित्य कर्म से मुक्त होकर मंदिर में माँ लक्ष्मी का एक चित्र स्थापित करें, फिर उनके सामने घी का दीपक जलाएं और इसके बाद श्री सूक्तम का पाठ शुरू करें। हर श्लोक के बाद माँ लक्ष्मी को पुष्प या इत्र अर्पित करें और पाठ पूरा हो जाने के बाद माँ की आरती करें। माँ लक्ष्मी के साथ श्री हरि की पूजा जरूर करें। अगर आप रोज ऐसा न कर पाएं तो शुक्रवार या पूर्णिमा को इस सूक्त का पाठ अवश्य करें।

Shri Suktam Path
Shri Suktam Path

क्या राखी चहिए सावधानियां –

इस स्तोत्र का पाठ करते वक़्त ध्यान रखें कि, लाल या गुलाबी आसन पर बैठकर ही श्री सूक्तम का पाठ करना चाहिए और पाठ सफेद या गुलाबी वस्त्र पहनकर ही करें। कभी भी अकेले श्रीलक्ष्मी जी की पूजा न करें, आपके साथ घर के सदस्यों का होना भी जरूरी है। वहीँ, पाठ के बाद अगले 5 मिनट तक जल को स्पर्श न करें।

MORE NEWS>>>रुद्रप्रयाग में लैंडस्लाइड से 5 लोगों की मौत, पहाड़ से बड़े-बड़े पत्थर गिरने से मलबे में दबी कारें, रेस्क्यू जारी

Leave a Comment