Search
Close this search box.

BREAKING NEWS

जम्मू-कश्मीर में एवलांच का रेड अलर्ट, कई इलाको में बर्फबारी से माइनस 10 डिग्री पहुंचा तापमान, UP-बिहार में बारिश ने ठंड बढ़ाईकेजरीवाल के PS के घर ED की रेड, मनी लॉन्ड्रिंग से जुड़े मामले में AAP के 10 ठिकानों पर पहुंची टीमब्लू साड़ी में श्वेता लगीं काफी स्टनिंग, एक्ट्रेस के कातिलाना अवतार पर 1 लाख से भी ज्यादा यूजर्स ने किया लाइकभारत में 718 Snow Leopard, अकेले लद्दाख में रहते हैं 477 हिम तेंदुए, WII की नई रिपोर्ट जारीजब नारद मुनि ने पूछा भगवान विष्णु से एकादशी का महत्व, आखिर कैसे मिला ब्राह्मण की पत्नी को बैकुंठ का ऐश्वर्याषटतिला एकादशी आज, जानिए शुभ मुहूर्त, पूजन विधि, व्रत के नियम और उपायइंदौर में नाबालिगों का खुनी खेल, 6 हमलावरो ने किया दो दोस्तों पर चाकू से हमला, आरोपी मौके से फरारशिवपुरी में 8 साल की बच्ची को ट्रक ने कुचला, पुलिस ने ट्रक जब्त किया, ड्राइवर फरार10वीं बोर्ड एग्जाम के पहले ही पेपर वायरल, टेलीग्राम चैनल पर 350 में दिया जा रहा प्रश्न पत्र, कई लोगों पर कार्यवाहीचिली के जंगलों में आग VIDEO, 112 लोगों की मौत सैकड़ों लापता, राष्ट्रपति ने आपातकाल घोषित किया

कब है अधिकमास अमावस्या? जानें सही डेट, शुभ मुहूर्त, पूजन विधि और नियम

Adhik Maas Amavasya
Adhik Maas Amavasya

👇खबर सुनने के लिए प्ले बटन दबाएं

हमारे हिन्दू धर्म में पुरुषोत्तम मास यानी अधिकमास की अमावस्या पितृ शांति के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण माना जाता है। शास्त्रों के अनुसार, अधिकमास की यह अमावस्या 3 साल में एक बार आती है। इस दिन पवित्र नदी में स्नान-दान करने से पुण्य फल की प्राप्ति होती है और इसी दिन हमारे पूर्वज पृथ्वी पर आते हैं।

Adhik Maas Amavasya
Adhik Maas Amavasya

अधिकमास अमावस्या शुभ मुहूर्त –

हिंदू पंचांग के अनुसार, इस बार अधिकमास की अमावस्या श्रावण मास के कृष्ण पक्ष की तिथि को आएगी। अमावस्या 15 अगस्त को दिन में 12 बजकर 42 मिनट से शुरू होगी और इसका समापन 16 अगस्त को दोपहर 3 बजकर 7 मिनट पर होगा। जिसका व्रत 16 अगस्त, बुधवार को रखा जाएगा। साथ ही इस दिन वरीयान योग का निर्माण भी होने जा रहा है, जिसका समय 15 अगस्त को शाम 5 बजकर 33 मिनट से शुरू होगा और इसका समापन 16 अगस्त को शाम 6 बजकर 31 मिनट पर होगा।

अधिकमास अमावस्या पूजन विधि –

सबसे पहले ब्रह्म मुहूर्त में उठकर सभी कामों से निवृत्त होकर स्नान कर लें। आषाढ़ अमावस्या के दिन गंगा स्नान का अधिक महत्व है, इसलिए गंगा स्नान जरूर करें। अगर आप स्नान करने के लिए गंगाजी नहीं जा पा रहे हैं, तो घर में ही नहाने के पानी में थोड़ा सा गंगाजल डालकर नहा लें। इसके बाद भगवान सूर्य को अर्घ्य दें और फिर भगवान शिव और माता पार्वती का पूजन करें। आषाढ़ अमावस्या के दिन अपनी योग्यता के अनुसार दान जरूर देना चाहिए। वहीँ, पितरों की शांति के लिए तर्पण, श्राद्ध आदि भी कर सकते हैं।

Adhik Maas Amavasya
Adhik Maas Amavasya

अधिकमास अमावस्या नियम –

इस दिन का व्रत बिना कुछ खाए पिए रहा जाता है। अमावस्या तिथि के दिन सुबह जल्दी उठकर गायत्री मंत्र का 108 बार जप करें और सूर्य-तुलसी को जल अर्पित कर शिवलिंग पर भी जल जरूर चढ़ाएं। साथ ही गाय को चावल अर्पित करें और तुलसी को पीपल के पेड़ पर रखें। इसके साथ ही इस दिन दही, दूध, चंदन, काले अलसी, हल्दी, और चावल का भोग अर्पित करें।

वहीँ पीपल के पेड़ के चारों ओर 108 बार धागा बांधकर परिक्रमा करें। विवाहित महिलाएं चाहें तो इस दिन परिक्रमा करते समय बिंदी, मेहंदी, चूड़ियां, आदि भी रख सकती हैं। इसके बाद पितरों के लिए अपने घर में भोजन बनाएं और उन्हें भोजन अर्पित कर कौउए को भोजन का निवाला खिलाये। साथ ही गरीबों को वस्त्र, भोजन, और मिठाई का दान करें. गायों को चावल भी खिलाए। इस दिन शनि देव को तेल का दान करें। साथ में आप काली उड़द और लोहा भी दान कर सकते हैं। 

MORE NEWS>>>हिमाचल के सोलन में बादल फटने से 7 लोगो की मौत, भारी बारिश से देहरादून में डिफेंस कॉलेज की बिल्डिंग ढही

Leave a Comment