Search
Close this search box.

BREAKING NEWS

प्लास्टिक सर्जरी की अफवाहों पर राजकुमार राव ने दिया जवाब.खुले हुए नलकूप/बोरवेल की सूचना देने वाले को मिलेगी 10 हजार रूपये की प्रोत्साहन राशिरोहित ने छह टीमों से ज्यादा छक्के उड़ाए, पोलार्ड को भी पीछे छोड़ापतंजलि को झटका : योग से कमाए पैसों पर देना होगा टैक्सपुलिस से पंगा लेना मत, नहीं तो यहीं चौराहे पर पटक-पटक कर मारूंगाआज पहले चरण का मतदान,कई दिग्गजों की साख दांव परजम्मू-कश्मीर में एवलांच का रेड अलर्ट, कई इलाको में बर्फबारी से माइनस 10 डिग्री पहुंचा तापमान, UP-बिहार में बारिश ने ठंड बढ़ाईकेजरीवाल के PS के घर ED की रेड, मनी लॉन्ड्रिंग से जुड़े मामले में AAP के 10 ठिकानों पर पहुंची टीमब्लू साड़ी में श्वेता लगीं काफी स्टनिंग, एक्ट्रेस के कातिलाना अवतार पर 1 लाख से भी ज्यादा यूजर्स ने किया लाइकभारत में 718 Snow Leopard, अकेले लद्दाख में रहते हैं 477 हिम तेंदुए, WII की नई रिपोर्ट जारी

शुरू हुई चंद्रयान-3 की लैंडिंग काउंटडाउन, कल शाम इतिहास रचने के लिए बेताब ISRO, ये है फाइनल 15 मिनट के लिए तैयारी

Chandrayaan-3 Landing
Chandrayaan-3 Landing

👇खबर सुनने के लिए प्ले बटन दबाएं

अंतरिक्ष में जब भी कोई मिशन जाता है, तो उसमें लगाए गए ऑनबोर्ड कंप्यूटर से मिले आंकड़े ही उस मिशन की सही हालत बताते हैं। यही हाल Chandrayaan-3 के साथ भी है, सुरक्षित लैंडिंग से ठीक पहले 15 मिनट में यही आंकड़े वैज्ञानिकों की सांसें फुलाकर रखेंगे। इन्हें Fifteen Minutes of Terror कहा जाता हैं।

Chandrayaan-3 Landing
Chandrayaan-3 Landing

Chandrayaan-3 की लैंडिंग 23 अगस्त की शाम 6 बजकर 4 मिनट पर होनी है। जिसमे अब ज्यादा समय बचा नहीं है, विक्रम लैंडर 25 km x 134 km की ऑर्बिट में घूम रहा है और इसी 25 किलोमीटर की ऊंचाई से इसे नीचे की तरफ जाना है। पिछली बार चंद्रयान-2 अपनी ज्यादा गति, सॉफ्टवेयर में गड़बड़ी और इंजन फेल्योर की वजह से वह गिर गया था।

इस बार वह गलती न हो इसलिए चंद्रयान-3 में कई तरह के सेंसर्स और कैमरे लगाए गए हैं। LHDAC कैमरा खासतौर से इसी काम के लिए बनाया गया है कि, कैसे विक्रम लैंडर को सुरक्षित चांद की सतह पर उतारा जाए। वहीँ, इसके साथ कुछ और पेलोड्स लैंडिंग के समय मदद करेंगे, वो हैं – लैंडर पोजिशन डिटेक्शन कैमरा (LPDC), लेजर अल्टीमीटर (LASA), लेजर डॉपलर वेलोसिटीमीटर (LDV) और लैंडर हॉरीजोंटल वेलोसिटी कैमरा (LHVC) मिलकर काम करेंगे, ताकि लैंडर को सुरक्षित सतह पर उतारा जा सके।

Chandrayaan-3 Landing
Chandrayaan-3 Landing

विक्रम लैंडर में इस बार 2 बड़े बदलाव किए गए हैं। पहला तो ये हैं कि, इसमें बचाव मोड (Safety Mode) सिस्टम है। जो इसे किसी भी तरह के हादसे से बचाएगा। इसके लिए विक्रम में दो ऑनबोर्ड कंप्यूटर लगाए गए हैं, जो हर तरह के खतरे की जानकारी देंगे। इन्हें यह जानकारी विक्रम पर लगे कैमरे और सेंसर्स से मिलेगी।

जानिए कैसे होगी चंद्रयान-3 की लैंडिंग ?
  • विक्रम लैंडर 25 किलोमीटर की ऊंचाई से चांद पर उतरने की यात्रा शुरू करेगा। अगले स्टेज तक पहुंचने में उसे करीब 11.5 मिनट लगेगा, यानी 7.4 किलोमीटर की ऊंचाई तक।
  • 7.4 किलोमीटर की ऊंचाई पर पहुंचने तक इसकी गति 358 मीटर प्रति सेकेंड रहेगी और अगला पड़ाव 6.8 किलोमीटर का होगा।
  • 6.8 किलोमीटर की ऊंचाई पर गति कम करके 336 मीटर प्रति सेकेंड की जाएगी और अगला लेवल 800 मीटर का रहेगा।
  • 800 मीटर की ऊंचाई पर लैंडर के सेंसर्स चांद की सतह पर लेजर किरणें डालकर लैंडिंग के लिए सही जगह खोजेंगे।
  • 150 मीटर की ऊंचाई पर लैंडर की गति 60 मीटर प्रति सेकेंड रहेगी, यानी 800 से 150 मीटर की ऊंचाई के बीच।
  • 60 मीटर की ऊंचाई पर लैंडर की स्पीड 40 मीटर प्रति सेकेंड रहेगी, यानी 150 से 60 मीटर की ऊंचाई के बीच।
  • 10 मीटर की ऊंचाई पर लैंडर की स्पीड 10 मीटर प्रति सेकेंड की जाएगी।
  • चंद्रमा की सतह पर उतरते समय यानी सॉफ्ट लैंडिंग के लिए लैंडर की स्पीड 1.68 मीटर प्रति सेकेंड रहेगी।

    Chandrayaan-3 Landing
    Chandrayaan-3 Landing

लैंडिंग के बाद कौन से पेलोड्स करेंगे काम –

लैंडिंग के बाद विक्रम लैंडर में लगे चार पेलोड्स काम करना शुरू होंगे। ये हैं रंभा (RAMBHA) चांद की सतह पर सूरज से आने वाले प्लाज्मा कणों के घनत्व, मात्रा और बदलाव की जांच करेगा। चास्टे (ChaSTE) चांद की सतह की गर्मी यानी तापमान की जांच करेगा। इल्सा (ILSA) लैंडिंग साइट के आसपास भूकंपीय गतिविधियों की जांच करेगा और लेजर रेट्रोरिफ्लेक्टर एरे (LRA), चांद के डायनेमिक्स को समझने का प्रयास करेगा।

यहां देख सकते हैं लैंडिंग को Live

आप नीचे दिए गए लिंक्स पर क्लिक करके चंद्रयान-3 की लैंडिंग लाइव देख सकते हैं। यह लाइव प्रसारण 23 अगस्त 2023 की शाम 5 बजकर 27 मिनट से शुरू होगा –

ISRO की वेबसाइट… isro.gov.in
YouTube पर… youtube.com/watch?v=DLA_64yz8Ss
Facebook पर… Facebook https://facebook.com/ISRO
या फिर DD नेशनल टीवी चैनल पर..

MORE NEWS>>>इंदौर में किसानो का आंदोलन, प्याज पर 40% निर्यात शुल्क के विरोध में उतरे किसान, कलेक्टर कार्यालय का घेराव कर सौंपा ज्ञापन

Leave a Comment