Search
Close this search box.

BREAKING NEWS

जम्मू-कश्मीर में एवलांच का रेड अलर्ट, कई इलाको में बर्फबारी से माइनस 10 डिग्री पहुंचा तापमान, UP-बिहार में बारिश ने ठंड बढ़ाईकेजरीवाल के PS के घर ED की रेड, मनी लॉन्ड्रिंग से जुड़े मामले में AAP के 10 ठिकानों पर पहुंची टीमब्लू साड़ी में श्वेता लगीं काफी स्टनिंग, एक्ट्रेस के कातिलाना अवतार पर 1 लाख से भी ज्यादा यूजर्स ने किया लाइकभारत में 718 Snow Leopard, अकेले लद्दाख में रहते हैं 477 हिम तेंदुए, WII की नई रिपोर्ट जारीजब नारद मुनि ने पूछा भगवान विष्णु से एकादशी का महत्व, आखिर कैसे मिला ब्राह्मण की पत्नी को बैकुंठ का ऐश्वर्याषटतिला एकादशी आज, जानिए शुभ मुहूर्त, पूजन विधि, व्रत के नियम और उपायइंदौर में नाबालिगों का खुनी खेल, 6 हमलावरो ने किया दो दोस्तों पर चाकू से हमला, आरोपी मौके से फरारशिवपुरी में 8 साल की बच्ची को ट्रक ने कुचला, पुलिस ने ट्रक जब्त किया, ड्राइवर फरार10वीं बोर्ड एग्जाम के पहले ही पेपर वायरल, टेलीग्राम चैनल पर 350 में दिया जा रहा प्रश्न पत्र, कई लोगों पर कार्यवाहीचिली के जंगलों में आग VIDEO, 112 लोगों की मौत सैकड़ों लापता, राष्ट्रपति ने आपातकाल घोषित किया

Aditya-L1 की मदद से सूर्य पर जायेगा ISRO, सूर्य की स्टडी के लिए पहला भारतीय मिशन, जानिए सूरज के कितना करीब जाएगा ?

Aditya-L1
Aditya-L1

👇खबर सुनने के लिए प्ले बटन दबाएं

चंद्रयान-3 मिशन की सफलता के बाद भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) अब एक और मिशन में जुट गया है। ISRO अब सूर्य पर जाने की तैयारी कर रहा है। बताया जा रहा है कि, ISRO 2 सितंबर को अपना SUN MISSION लॉन्च कर सकता है। यह सूर्य की स्टडी के लिए पहला भारतीय मिशन होगा।

Aditya-L1
Aditya-L1

ISRO को उम्मीद है कि, आदित्य एल -1 मिशन (Aditya-L1 Mission) से सूर्य के तापमान, पराबैगनी किरणों के धरती, खासकर ओजोन परत पर पड़ने वाले प्रभावों और अंतरिक्ष में मौसम की गतिशीलता का अध्ययन किया जा सकेगा। इसे ISRO के बेंगलुरु स्थित मुख्यालय से लॉन्च किया जाएगा।

आदित्य-एल1 मिशन, जिसका उद्देश्य L1 के चारों ओर की कक्षा से सूर्य का अध्ययन करना है। यह धरती से 15 लाख किलोमीटर दूर स्थित है और विभिन्न तरंग बैंडों में प्रकाशमंडल, क्रोमोस्फीयर और सूर्य की सबसे बाहरी परतों (CORONA) का निरीक्षण करने के लिए अपने साथ सात पेलोड ले जाएगा। ISRO के मुताबिक, आदित्य-एल1 राष्ट्रीय संस्थानों की भागीदारी वाला पूरी तरह से स्वदेशी प्रयास है।

Aditya-L1
Aditya-L1

बेंगलुरु स्थित इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ एस्ट्रोफिजिक्स (IIA) ने विजिबल एमिशन लाइन कोरोनाग्राफ पेलोड के विकास में अहम रोल निभाया है। जबकि, मिशन के लिए एक महत्वपूर्ण उपकरण सोलर अल्ट्रावायलेट इमेजिंग टेलीस्कोप (SUIT) को पुणे स्थित इंटर-यूनिवर्सिटी सेंटर फॉर एस्ट्रोनॉमी एंड एस्ट्रोफिजिक्स (IUCAA) ने तैयार किया है।

आदित्य-एल1 यूवी पेलोड का उपयोग करके कोरोना और सौर क्रोमोस्फीयर पर और एक्स-रे पेलोड का इस्तेमाल करके फ्लेयर्स पर ऑब्जर्वेशन कर सकता है और साथ ही पार्टिकल डिटेक्टर और मैग्नेटोमीटर पेलोड चार्ज्ड पार्टिकल और L1 के चारों ओर हेलो ऑर्बिट तक पहुंचने वाले चुंबकीय क्षेत्र के बारे में जानकारी प्रदान कर सकता हैं।

Aditya-L1
Aditya-L1

2 सितंबर को लॉन्च होने की संभावना –

यू आर राव सैटेलाइट सेंटर में बना ये सैटेलाइट दो हफ्ते पहले आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा के ISRO के स्पेसपोर्ट पर पहुंचेगा। ISRO के मुताबिक, इसे 2 सितंबर को लॉन्च किए जाने की पूरी संभावना है। साथ ही इस अंतरिक्ष यान को सूर्य-पृथ्वी प्रणाली के L1 के चारों ओर एक प्रभामंडल कक्षा में स्थापित करने की योजना है।

MORE NEWS>>>मेरठ में पिता ने की बेटे की बेहरहमी से हत्या, 27 साल के बेटे को ईंट से कूचकर उतारा मौत के घाट, गिरफ्तार

Leave a Comment