Search
Close this search box.

BREAKING NEWS

“धर्मा प्रोडक्शन” की फ़िल्म के लिए मुंबई की सुप्रसिद्ध कास्टिंग एजेंसी ‘जोगी फ़िल्म कास्टिंग’ इन्दौर में करेगी ऑडिशनमुख्यमंत्री डॉ यादव ने दिखायी संवेदनशीलता, काफिला रुकवाकर पीड़िता की सुनी समस्यामप्र के सबसे बड़े बिना कर के विकास बजट पर मुख्यमंत्री डॉ मोहन यादव को मंत्री राकेश शुक्ला ने दिया धन्यवाद……मध्यप्रदेश का धार्मिक मुख्यालय उज्जैन होगाअनाथ आश्रम में हो रहे घोर अनियमितताओं और गंभीर आरोपों की जांच की मांग: कांग्रेस महासचिव राकेश सिंह यादव ने उठाए कई सवालGolden Temple में लगे खालिस्तानी नारे.इंदौर में नोटा के नंबर 1 आने पर कांग्रेस ने केक काटकर मनाया जश्न .सलमान खान पर हमले की नाकाम साजिश.कीर्तन कर पहुंचे वोट डालने.सेना के जवानों ने डाला वोट.

81.5 करोड़ भारतीयों का डेटा लीक, कोविड-19 के दौरान ICMR ने जुटाई थी जानकारी, हैकर्स ने किया हाथ साफ़

Dark Web Scam
Dark Web Scam

👇खबर सुनने के लिए प्ले बटन दबाएं

भारत में हुए इस हैकिंग के बाद अनुमान लगाया जा रहा हैं की, यह अब तक का सबसे बड़ा डेटा लीक हो सकता है। रिपोर्ट्स की मानें तो डार्क वेब पर मौजूद डेटा कोविड-19 के दौरान ICMR (इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च) द्वारा ली गई जानकारी से जुड़ा है। डार्क वेब पर 81.5 करोड़ भारतीय यूजर्स की पर्सनल डिटेल्स मौजूद हैं। इन डिटेल्स में यूजर्स के नाम, नंबर, आधार कार्ड समेत तमाम दूसरी पर्सनल डिटेल्स शामिल हैं।

Dark Web Scam
Dark Web Scam

हालांकि, ये डेटा लीक कैसे हुआ है, इस बारे में कोई ठोस जानकारी नहीं है। फ़िलहाल CBI इस मामले की जांच कर रही है, डार्क वेब पर pwn0001 नाम के एक हैकर ने इस जानकारी का ऐड डाला था, जिसके बाद यह मामला सामने आया है। हैकर के शेयर किए गए डेटा के मुताबिक, चोरी की गई जानकारियों में आधार कार्ड और पासपोर्ट्स तक की डिटेल्स शामिल हैं। इसके साथ ही यूजर्स का नाम, फोन नंबर और ऐड्रेस की जानकारी भी मौजूद है।

हैकर ने दावा किया है कि, ये डेटा Covid-19 के दौरान ICMR द्वारा इकट्ठा की गई जानकारी का हिस्सा है और इस डेटा लीक की शुरुआती जानकारी अमेरिकी साइबर सिक्योरिटी और इंटेलिजेंस एजेंसी Resecurity ने स्पॉट की थी। 9 अक्टूबर को pwn0001 ने ब्रीच फोरम पर इस डेटा लीक की जानकारी दी थी। उसने 81.5 करोड़ भरतीय यूजर्स के डेटा की उपलब्धता की जानकारी शेयर की है, जिसमें आधार तक की डिटेल्स शामिल हैं।

Dark Web Scam
Dark Web Scam

1 लाख फाइल्स हैं मौजूद –

रिसर्चर्स ने पाया कि, लीक डेटा में 1 लाख फाइल्स मौजूद हैं, जिसमें भारतीय यूजर्स की डिटेल्स हैं। इन डेटा की एक्यूरेसी को चेक करने के लिए सरकारी पोर्टल पर वेरिफाई आधार फीचर का इस्तेमाल किया गया और इसमें जानकारी को सही भी पाया गया है। रिपोर्ट्स की मानें तो इस लीक के बारे में Cert-In ने भी ICMR को अलर्ट किया था।

COVID-19 टेस्ट का डेटा NIC (National Informatics Centre), ICMR और हेल्थ मिनिस्ट्री के वेबसाइट्स पर बिखरा हुआ है। इस वजह से इसका अंदाजा लगा पाना मुश्किल है कि ये डेटा कहा से लीक हुआ। खबर लिखते वक्त तक इस डेटा लीक पर IT मिनिस्ट्री या दूसरी सरकारी एजेंसियों का कोई जवाब नहीं आया।

MORE NEWS>>>तेलंगाना में BRS सांसद कोथा प्रभाकर पर हमला, चुनाव प्रचार के दौरान आरोपी ने हाथ मिलाने के बहाने मारा चाकू, हालत स्थिर

Leave a Comment