Search
Close this search box.

BREAKING NEWS

“धर्मा प्रोडक्शन” की फ़िल्म के लिए मुंबई की सुप्रसिद्ध कास्टिंग एजेंसी ‘जोगी फ़िल्म कास्टिंग’ इन्दौर में करेगी ऑडिशनमुख्यमंत्री डॉ यादव ने दिखायी संवेदनशीलता, काफिला रुकवाकर पीड़िता की सुनी समस्यामप्र के सबसे बड़े बिना कर के विकास बजट पर मुख्यमंत्री डॉ मोहन यादव को मंत्री राकेश शुक्ला ने दिया धन्यवाद……मध्यप्रदेश का धार्मिक मुख्यालय उज्जैन होगाअनाथ आश्रम में हो रहे घोर अनियमितताओं और गंभीर आरोपों की जांच की मांग: कांग्रेस महासचिव राकेश सिंह यादव ने उठाए कई सवालGolden Temple में लगे खालिस्तानी नारे.इंदौर में नोटा के नंबर 1 आने पर कांग्रेस ने केक काटकर मनाया जश्न .सलमान खान पर हमले की नाकाम साजिश.कीर्तन कर पहुंचे वोट डालने.सेना के जवानों ने डाला वोट.

NCERT के सिलेबस में शामिल होंगे महाकाव्य, रामायण-महाभारत से शिक्षा लेंगे छात्र, क्लास की दीवार पर लिखा जाएगा संविधान

👇खबर सुनने के लिए प्ले बटन दबाएं

भारत के महाकाव्य रामायण और महाभारत नेशनल काउंसिल ऑफ एजुकेशनल रिसर्च एंड ट्रेनिंग (NCERT) के सिलेबस में शामिल हो सकते हैं। इन्हें स्कूल के इतिहास के सिलेबस में भारत के क्लासिकल पीरियड की कैटेगरी में रखा जा सकता है।

NCERT Syllabus Update
NCERT Syllabus Update

NCERT के ही हाईलेवल पैनल सोशल साइंस कमेटी ने इसकी सिफारिश की है। हालांकि, अभी यह तय नहीं हुआ है कि, “रामायण-महाभारत किस क्लास के किस चैप्टर में पढ़ाई जाएंगी।” प्रो. (रिटायर्ड) सीआई इसाक ने बताया कि, “पैनल ने यह प्रस्ताव भी रखा कि स्कूल की हर क्लास में दीवार पर संविधान की प्रस्तावना लिखी जाए। यह क्षेत्रीय भाषा में होनी चाहिए। इसाक इतिहास के रिटायर्ड प्रोफेसर हैं।”

NCERT Syllabus Update
NCERT Syllabus Update

कौन सी कमेटी और इसने क्या प्रस्ताव रखे –

दरअसल, NCERT की सोशल साइंस कमेटी स्कूलों में इस विषय के पाठ्यक्रम को फिर से तय करने के लिए बनाई गई है। कमेटी का यह भी प्रस्ताव है कि, “इंडियन नॉलेज सिस्टम तैयार किया जाए। किताबों में वेद और आयुर्वेद को भी शामिल किया जाए।” यह प्रस्ताव NCERT की नई टेक्स्ट बुक बनाने में मददगार रहेंगे। हालांकि, इन प्रस्ताव को अभी NCERT से अंतिम मंजूरी मिलनी बाकी है।

NCERT Syllabus Update
NCERT Syllabus Update

इतिहास को 4 भागों में बांटने की सिफारिश –

प्रो. (रिटायर्ड) इसाक ने बताया कि – “हमने इतिहास को 4 हिस्सों में बांटने का सुझाव दिया है। 1 – क्लासिकल पीरियड, 2 – मेडिएवल पीरियड यानी मध्यकाल, 3 – ब्रिटिश काल और 4 – आधुनिक भारत।

अभी तक इतिहास तीन हिस्सों में ही पढ़ाया जाता है – प्राचीन भारत, मध्यकालीन भारत और आधुनिक भारत। क्लासिकल पीरियड में हमने रामायण और महाभारत महाकाव्य पढ़ाने का सुझाव रखा है। हमारा मानना है कि, “स्टूडेंट्स को यह पता होना चाहिए कि राम कौन थे और उनका उद्देश्य क्या था?”

MORE NEWS>>>BYJUS को मिला 9,000 करोड़ का नोटिस, लेनदेन में गड़बड़ियों का शक, कंपनी ने कहा – ED से नोटिस मिलने की खबर झूठी

Leave a Comment